A Refuge and an Escape

So, you are back again . . .   The diary asks, “So, you are back again?” The writer responds, “I don’t have any other place to go, it is only in your singled lined pages that I seek a refuge.” A refuge or an escape? Actually both. No, you have to choose one. Ah, … Continue reading A Refuge and an Escape

Advertisements

“This is your Soul talking”

“दिल भरा है, कोई बात दबी है भीतर, कुछ कहना है उसे। आस पास कोई नहीं, न कोई जान और न ही कोई अनजान। आसुओं पर से विशवास उठ गया है अब उसका, अकेले में बहाओ तो लौट कर तुम्हारे पास ही चले आते हैं ये , किसी का साथ हो कोई ग़म की बात … Continue reading “This is your Soul talking”